सच हम नहीं, सच तुम नहीं, सच है महज संघर्ष ही!

मंगलवार, अगस्त 11, 2009

रोटी और संसद

एक आदमी रोटी बेलता है

एक आदमी रोटी खाता है

एक तीसरा आदमी भी है

जो न रोटी बेलता है,

न रोटी खाता है

वह सिर्फ़ रोटी से खेलता है

मैं पूछता हूं--'यह तीसरा आदमी कौन है ?

'मेरे देश की संसद मौन है।

- सुदामा पाण्डेय धूमिल

9 टिप्‍पणियां:

  1. ये तीसरा आदमी वो वर्ग है जो रोटी केवल स्वाद के लिए खाता है..यानी रोटी से खेलता है.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह, चार शब्दों में ही आपने बड़ी गूढ़ बात कह डाली !

    उत्तर देंहटाएं
  3. flयह तीसरा आदमी हमारी देश की आम जनता है जिसे रोटी तक नसीब नहीं होती........बहुत खूब लिखा........

    उत्तर देंहटाएं
  4. धूमिल की यह जानी पहचानी रचना एक बार और पढ़ना अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इतने कम शब्दों में इतनी गहरी बात. यह धूमिल जी का ही कमाल हो सकता है.

    उत्तर देंहटाएं