सच हम नहीं, सच तुम नहीं, सच है महज संघर्ष ही!

बुधवार, अगस्त 12, 2009

लड़की और सपने

मत निहार/ऐ लड़की
उन्मुक्त क्षितिज को,
इस पार से उस पार तक
जो स्वप्निल फैलाव है
मत बाँध/ख़ुद को
उन्मुक्तता के आकर्षण में
कि/ क़तर दिए जायेंगे
तेरे पर/ गर तू
चिडिया होना चाहती है
और / बंद कर दिए जायेंगे
हर सुराख़/ गर तू
हवा होना चाहती है।

अल्हड उम्र है तेरी/ ठीक है
देख सपने/ जितना जी चाहे
पर/ मत भूल
कि जन्मी है तू
एक पर्म्पराबध घर की चार दीवारी में
कि / कैद कर दिया जायेगा
रौशनी का हर कतरा
गर तू/दीया होना चाहती है
और पट दिया जाएगा
आसमान/ गर तू
धूप होना चाहती है।
इसलिए / गर तुझे होना है
चिडिया /धूप / हवा/ रौशनी
रोप अपने मन में
आत्म शक्ति का बीज
अंकुरने दे/ स्वाभिमान का पौधा
और भर पांवों में/ संघर्ष की शक्ति
कि आयेंगे जाने कितने अंधड़
परम्पराओं के/ आभावों के
वरना / नाकाम जिंदगी की
अगली कड़ी भी तुझे ही होना है
एक कुंठित और मुखर औरत...!

- सीमा स्वधा
(संवेद वाराणसी के जनवरी - जून'०६अंक से )

5 टिप्‍पणियां:

  1. एक उत्कृष्ट रचना .......बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. waah.........lajawaab.......behtreen..........shabd kam pad rahe hain tarif ke liye...........bahut hi sundar dhang se prastut kiya hai ek ladki aur uske darshan ko.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसलिए / गर तुझे होना है
    चिडिया /धूप / हवा/ रौशनी
    रोप अपने मन में
    आत्म शक्ति का बीज
    ====
    इस आत्मशक्ति की तलाश तो करनी ही होगी.
    बहुत सुन्दर रचना ने मन मोह लिया

    उत्तर देंहटाएं