सच हम नहीं, सच तुम नहीं, सच है महज संघर्ष ही!

बुधवार, जून 16, 2010

शीर्षक दें और दिखायें अपनी रचनात्मकता


14 टिप्‍पणियां:

  1. पिया मिलन को जाना ......
    ओ ओ पिया मिलन को जाना ......................

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिलन को आतुर प्रेयसी।

    एक भीगी रात को
    प्रेमी से मिलने को
    नंगे पाँव दौड्ते हुये
    मिलन को आतुर प्रेयसी
    का बदहवास सा
    सुनसान सडक पर
    भागना
    प्रेम की उत्कट
    अभिलाषा का
    प्रतिबिम्ब

    उत्तर देंहटाएं
  3. आओ जैसे आए सावन बरसो जैसे बरसे सावन..!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आओ जैसे आए सावन बरसो जैसे बरसे बादल..!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. भागो भूत आया।
    http://udbhavna.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. चित्र अच्छा है इसके लिए हमारे हिसाब से=========
    अधूरे सफ़र का सच
    -----------------
    जय हिन्द जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  7. रोके हमें न , न आँधी न पानी

    और न अँधेरा ,

    दूर कहीं है अपना सबेरा

    उत्तर देंहटाएं
  8. मंजिल दूर है,
    जाना जरूर है,
    अब हौसले हैं बुलंद
    उसे पाना जरूर है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. रिमझिम बरसात का
    कोहरे या कुहास का
    रिश्ता क्या भला
    मिलन की प्यास से

    उत्तर देंहटाएं