सच हम नहीं, सच तुम नहीं, सच है महज संघर्ष ही!

शनिवार, जून 12, 2010

पटना में भगवाधारियों की भीड़...लालू हुए अधीर !

गंगा नदी के घाट पे
भई भगवाधारियों की भीड़,
चमचा-बेलचा चन्दन घिसे
तिलक करें गडकरी व उनके वीर,
नरेन्द्र मोदी के आगमन पर
नीतीश हुए गंभीर,
बज गई है चुनावी बिगुल
क्षत्रप चला रहे हैं तीर,
कौन बनेगा योद्धा
कौन बनेगा वीर,
सूबे की है अलहदा राजनीति
गजब की है तस्वीर,
पल में तोला-पल में माशा
यही जनता की तकदीर,
भगवा ध्वज और नारों को देख
लालू हुए अधीर...
गंगा नदी के घाट पे
भई भगवाधारियों की भीड़...

9 टिप्‍पणियां:

  1. पल में तोला-पल में माशा
    यही जनता की तकदीर

    mere pas shabd nahi hain
    shreshth rachna ka udaharan

    उत्तर देंहटाएं
  2. मृतुन्जय जी के कमेन्ट से इस पोस्ट में और रौनक आ गयी

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोई जरुरी नहीं हर पोस्ट हर किसी के नब्ज को टटोल ले..समझ के बहार भी हो सकती है...जैसे चेतन भगत अच्छे लेखक हैं और उनकी किताब हिंदी में अनुदित होकर खूब लोकप्रिय हो रही है..पर चेतन हिंदी से अंजान हैं....आजकल आम भी बिना गुठली के आने लगे हैं मृतुन्जय जी.

    उत्तर देंहटाएं