सच हम नहीं, सच तुम नहीं, सच है महज संघर्ष ही!

गुरुवार, अगस्त 13, 2009

मुरलीवाले द्वारा शाश्वत सच की बानगी



यदा यदा ही धर्मस्य ग्लनिर्भवति भारत,
अभ्युत्थानमधर्मस्य स्वात्मानं सृजाम्यहम,
परित्राणाय साधूनाम विनाशाय च दुष्कृताम,
धर्मसंस्थापनार्थाय, संभवामि युगे युगे।

4 टिप्‍पणियां:

  1. कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामना और ढेरो बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर .. जन्‍माष्‍टमी की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं