सच हम नहीं, सच तुम नहीं, सच है महज संघर्ष ही!

शुक्रवार, जुलाई 31, 2009

पिता और नी रिप्लेसमेंट

अभी अभी
लौटे हैं पिता एम्स से
डॉक्टर की हिदायतें और सुझाव
टटका हैं अभी
आँखों में छायी उदासी
और दर्द का मिला जुला भाव
माँ के चहरे का साझीदार है
नी रिप्लेसमेंट शब्द एकदम
अजनबी तो नहीं वजनी जरूर है
'किसके साथ बांटा जाए इसे'
धीरे से फुसफुसाती है माँ
'सीढियां चढ़ने की सख्त मनाही है
नीचे ही बंदोबस्त करना होगा'
कैसी बिडम्बना है ये
जिनके बदलौत चढ़े हैं कोई
सफलता की सीढियाँ
आज उन्हें सीढियों पर चढ़ने तक की मनाही है
उठाया जिसने आज तक
पूरे परिवार का बोझ
आज उनका बोझ
उनके घुटनों को भारी पड़ रहा है

अपने सपनो को
हाशिये पे रख
अपनों के सपनों को मनचाहा आकार देन के क्रम में
उन्होंने कब सोचा होगा भला
कि अपनों के सपने सगे तो होते हैं
नितांत अपने नहीं
मसलन बेटे के सपनों की सहभागी बहू
बेटी के सपनों का वो अनजाना
सहोदर होने के बावजूद
भाई के सपनों की मंजिल में भी
कोई हिस्सेदारी नहीं होती
सच पूछा जाये तो सपने बेवफा होते हैं
खासी हिम्मत और धैर्य की
जरूरत होती है
दूसरों के सपने पालने में
हाँ सपने गर अपने होते
पूरा होने पर अंत तक साथ निभाते हैं
काफी हताश हैं पिता
जानती हूँ
ये हताशा महज घुटनों की बेवफाई नही
वरन कहीं न कहीं
भौतिकता की इस अंधी दौड़
में टूटते विशवास और दरकते सपनों
का दर्द भी है।

- सीमा स्वधा
(दैनिक जागरण के पुनर्नवा में १३ जनवरी'२००६ को प्रकाशित)

3 टिप्‍पणियां:

  1. उठाया जिसने आज तक
    पूरे परिवार का बोझ
    आज उनका बोझ
    उनके घुटनों को भारी पड़ रहा है
    ====
    बहुत बेहतरीन ---
    शायद टिप्प्णी की पहुंच के बाहर

    उत्तर देंहटाएं