सच हम नहीं, सच तुम नहीं, सच है महज संघर्ष ही!

बुधवार, अक्तूबर 07, 2009

बच्चे


बच्चे वाकई होते हैं मन के सच्चे!

बस उन्हें समझने की दरकारहै।

3 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सच कहा आपने/बच्चो को समझना बहुत ही जरुरी होता है/सुन्दर विचार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. " sahi kaha "

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं